कैसे किताबें हमारी मित्र है ? How Books are our Best Friend?

फ्री की किताबें

किताबें इंसान की सबसे अछि दोस्त है | क़िताबें हमारे ज्ञान को हमेशा बढ़ाती रहती हैं और इससे बड़ा हमारा कोई मित्र नहीं है |

अच्छी किताबें पढ़ने से अच्छी आदतों का विकास होता है बल्कि स्वाभाविक रूप से हमारे भविष्य के लिए महत्वपूर्ण है| एक सच्चे मित्र की तरह हमेशा अच्छी राह पर चलने की प्रेरणा देती है |

हमको पढ़ने की आदतों को विकसित करना चाहिए क्यूंकि किताबें पढ़ना मनुष्य के लिए बड़ा जरुरी है | शुरुआत में थोड़ा मुश्किल हो सकता है पर नियमित रूप से पढ़ना शुरू करने पर हम अपने जीवन में किताबें पढ़ने का आनंद लेने लगते हैं|

दुनिआ के महान या सफल ब्यक्ति के जीवन का अध्ययन करने पर पता चलता है की किताबें उनके जीवन का प्रमुख हिस्सा रही है और पढ़ना उनकी रोजमर्रा की ज़िंदगी में शामिल था |

हर इंसान अपनी रूचि के हिसाब से किताब पढ़ता है | आपको जिस भी बिषय के बारे में पढ़ना है आप उसको पढ़ सकते है |

किताब पढ़ने से हम वास्तविकता को छोड़ एक अलग दुनिया में चले जाते हैं। एक अच्छी किताब हमको अंदर से खुशी महसूस कराती है और हमारे तनाव को दूर करने में मदद करती है।

जब हम कोई पुस्तक पढ़ रहे होते हैं, उस समय हमारी एकाग्रता अपनी चरम सीमा पर होती है। किताबें पढ़ने से हमारी एकाग्रता में सुधार आता है |

किताब एक ऐसा दोस्त है , जिसके पास हमारे हर सवाल का जवाब होता है। जो हर युग में लोगों का सच्चा साथी बनकर उभरी है। क्या होता अगर हमारे ग्रन्थ,वेद,शाश्त्र और संस्कृति की किताबें नहीं लिखी जाती ? क्या होता अगर आयुर्वेद की किताबों को नही लिखा जाता ?

संस्कृति की पहचान करने में और मानव जीवन को शक्तिशाली बनाने में पुस्तकों का बहुत बड़ा योगदान है | हमारे पूर्वजों ने हर प्रयोग,उपयोग और उपचार के लिए किताबें लिखी ताकि आने वाली पीडियां उसको पढ़ सकें |

सभ्यताएं नष्ट हो गयी पर पुस्तकों में भरा ज्ञान नष्ट नहीं हुआ | यह है किताबों का जादू जो आपको मदद करता है किसी भी बिषय पर जानकारी हासिल करने के लिए |

आज मनोरंजन के साधन बढ़े तो हमने किताबों से किनारा करने लगे । किताबें को अब सिर्फ हमने पढ़ाई का हिस्सा मान लिया है। ‘जिंदगी क्या है कोर्स की किताबों को हटा कर देखें’

अपनी रोज़मर्रा की जिंदगी में टेलीविज़न,मोबाइल और सोशल मीडिया को शामिल कर लिए और हमने किताबों से दुरी बना ली।

पढ़ना कम हुआ, तो लिखना, अपने तरीके से सोचना, समझना भी कम होता गया। आज एक ही विषय पर एक जैसी सोच सबको परोस दी जाती है |

हमारा मस्तिष्क एक सिद्धांत पर हमेशा काम करता है जिसको इंग्लिश में लिखा गया है ” व्हाट गोज इन तहत केस आउट” और हिंदी में इसके अनेक उदहारण है ” जैसी सांगत वैसी रंगत “, जैसी दृष्टि वैसी सृष्टि” और ” जैसी सोच वैसी दुनिआ”

आप जिसके साथ अपने समय बिताते है,जिसके विचार ग्रहण करते है या जिससे आपकी गहण मित्रता है तो आपके जीवन उसी से प्रभावित होगा |

किताबों में महान लोगो के महान विचार होते है | अगर आप किताबों से दोस्ती करते है तो किताबें आपको मदद करती है उन महान लोगो का मित्र बनाने में जिनके विचार उस पुस्तक में है | इसलिए किताबों को मित्र कहा गया है |

आज समस्या यह है हम पढ़ते सिर्फ किसी एग्जाम में पास होने के लिए । किताबें हमेशा से हमारी जिंदगी में अहमियत रखती हैं। हमें किताबों में लिखा गूढ़ ज्ञान हासिल करना चाहिए |

फ्री की किताबें – Free Books to Read

आप पढ़ने के शौकीन है तो जरुरी नहीं है की आप पैसे खर्च करके ही किताबें पढ़ें | गूगल पर खोजने पर आपको कई हज़ार किताबें ऐसी मिल जाएँगी जिनको आप फ्री में पढ़ सकते है |

आप गूगल बुक्स ( Google Books )भी सर्च कर सकते है |

गुटेनबर्ग ( Gutenberg ) एक ऐसी वेबसाइट है जिसपर 60 हज़ार से फ्री की किताबें उपलब्ध है आप वहां से भी पढ़ सकते हैं

हमारे जीवन में क्या करती है किताबें आइये हम आपको निचे क्रमबद्ध तरीके से बताते है |

  • दिमाग को तेज़ करती है :- 
    किताबें पढ़ने से दिमाग की बहुत ज़्यादा कसरत होती है | आपको कल्पना करना सिखाती है | जब हम किताब पढ़ते है तो हमारी मस्तिष्क में उस विषय पर काल्पनिक चित्र बनने लगते है |

जितना ज़्यादा किताब पड़ेंगे उतना दिमाग का अभ्यास होगा और मस्तिष्क स्वस्थ रहेगा।

  • तनाव काम करने में मदद करती है :-
    तनाव को दूर करने के लिए किताबें पढ़ना एक असरदार तरीका है, क्योंकि जब हम किसी विषय को पढ़ने पर ध्यान लगाते है तो दिमाग उसकी कल्पना में चला जाता है,मस्तिष्क मौजूद परस्तिथि को भूल जाता है जिससे तनाव कम होता है।
  • बेहतर नींद लेने में सहायक है  :-
    जब हम किताब पढ़ते है तो हम आनंदित महसूस करते हैं। मस्तिष्क में आनंद का मतलब है DOPAMINE का रिलीज़ होना |

सकून और शांति आपके शरीर में आ जाती है और आप भरपूर नींद लेते है |

इसलिए लोग रात को सोने से पहले अपनी मनपसंद किताब पढ़ना या फिर मनपसंद विषय पर पढ़ना पसंद करते है | ताकि रात को मनपसंद विचारों के साथ सोया जा सके

  • याददाश्त बेहतर बनती है :-
    जब हम कोई विषय पढ़ते है तो हमारा दिमाग कहानी के सभी कैरक्टर,सारी घटनाओं और कहानी को अपने तरीके से हमारे दिमाग में स्टोर करता है। इससे हमारी स्मरण करने की शक्ति और मजबूत होती है।
  • मन को शांत और संयमित करती है :-
    जब हम पुस्तक पढ़ते है तो हमारे अंदर एक तरह की शांति और सुकून का भाव पैदा होता है।

एक शोध से बात सामने आई है कि आध्यात्मिक या धार्मिक पुस्तक पढ़ने से ब्लड प्रेशर कम होता है जिससे मन शांत रहता हैं।

  • एकाग्रता बढ़ती है :-
    जब हम पढ़ रहे होते हैं तो हमारा पूरा ध्यान एक ही तरफ केंद्रित होता है, जिससे हमारी एकाग्र शक्ति बढ़ती है |
  • प्रेरणा का स्रोत है किताबें :-

किताबों में महान लोगो के महान विचार होते है | एक सर्वेक्षण में यह बात सामने आई कि 67 फीसदी लोगों का मानना है कि पढ़ने से उनके जीवन में कुछ बेहतर करने की भावना उत्पन्न होती है,बह हमेशा ऊर्जावान बने रहते है और जीवन के उतार चढ़ाव में स्थिर रहते हैं।

बह हमेशा बेहतर जीवन जीने के लिए प्रेरित रहते है और दुसरो को प्रेरित करते है |

  • शब्द ज्ञान बढ़ती है पुस्तकें :- 
    पढ़ने से ज्ञान के साथ-साथ शब्द ज्ञान और भंडार भी बढ़ता है।

पढ़ने से बहुत सारे शब्द हम बोलते हैं जो हमारे दिमाग में स्टोर हो जाते हैं और हमारी भाषा शैली का हिस्सा बन जाते हैं |

हम अच्छे वक्ता बनते है और हमारी कही गयी बातों में भजन होता है | अच्छे शब्दों के प्रयोग से सुनने वाला मौन रहकर सुनता है और अपने विचारों पर अमल करवाने की क्षमता बढ़ती है |

  • विश्लेषण क्षमता बढ़ती है :-
    कोई भी विषय हो इंसान उसका विश्लेषण अपने मस्तिष्क में रखे विचारों के आधार पर करता है |

जब हम पुस्तकों से ज्ञान लेते है और उसका इस्तेमाल किसी विषय पर विश्लेषण करने के लिए करते है जो एक बेहतर विश्लेष्ण होता है | हम एक से ज़्यादा विषयों पर सोचते है, परखते है और अंत में सही निर्णय लेते है

आपने ऊपर कीतबें पढ़ने के फायदे के बारे में पढ़ा होगा | अभी भी ऐसी अनगिनत फायदे है जिसको बताना बाकी है |

हम लिखते लिखते थक जायेंगे पर फायदे काम न होंगे | आप से अनुरोध आप अपने जीवन में किताबों को अपने जीवन का हिस्सा बनाएं |

रोज़ किसी भी अच्छी किताब के 5 – 8 पेज पढ़िए | आप खुद भी पढ़िए और दुसरो को भी प्रेरित कीजिये किताबें पढ़ने के लिए |

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*