Sad Shayari in Hindi ( दर्द भरी शायरी )

Sad Shayari
kabhi khud pe kabhi halat Par Rona Aya ( Sad Shayari )
  • Save
कभी ख़ुद पे, कभी हालात पे रोना आया
बात निकली, तो हर इक बात पे रोना आया |
हम तो समझे थे कि हम भूल गए हैं उनको
क्या हुआ आज, ये किस बात पे रोना आया ||

Kabhi Khud pe, kabhi halaat pe rona aya baat nikali, to har ik baat pe rona aya ham to samjhe the ki hum bhul gae hain unko kya hua aaj, ye kis baat pe rona aaya

ruthe hue dost ko manane ki shayari
  • Save

नाकाम थीं मेरी सब कोशिशें उस को मनाने की,
पता नहीं कहां से सीखी जालिम ने अदाएं रूठ जाने की |

Nakaam thi meri sab koshishe us ko manaane ki
Pata nahi kaah se seekhi zaalim ne adaayen rooth jane ki

Sad Shayari in hindi
  • Save

उजड़ जाते हैं सर से पाँव तक वो लोग जो,
किसी बेपरवाह से बे-पनाह मोहब्बत करते हैं।

Ujad Jaate Hain Sar Se Paanv Tak Wo Log Jo,
Kisi Beparwah Se be-Panaah Mohabbat Karte Hain.

Dard Bhari Shayari
  • Save

कितना अजीब है लोगों का
अंदाज़-ए-मोहब्बत ,
रोज़ एक नया ज़ख्म देकर कहते हैं
अपना ख्याल रखना ।

Kitna Ajeeb Hai Logon Ka
Andaaz-E-Mohabbat,
Roz Ek Naya Zakhm Dekar Kahte Hain
Apna Khyaal Rakhna.

Dard ki Shari
  • Save

मेरी आँखों को सुर्ख़ देख कर कहते हैं लोग,
लगता है..तेरा प्यार तुझे आज़माता बहुत है।

Meri Aankhon Ko Surkh Dekh Kar Kehte Hain Log,
Lagta Hai….Tera Pyaar Tujhe Aazmaata Bahut Hai.

Shayari on life
  • Save

मत सोच इतना ज़िन्दगी के बारे में,
जिसने ज़िन्दगी दी है उसने भी कुछ तो सोचा होगा

Mat Soch Itana Zindagi Ke Baare Mein,
Jisne Zindagi Di Hai Usne Bhi Kuchh To Socha Hoga

Zindgi ki Shayari
  • Save

आहिस्ता चल ऐ ज़िंदगी, कुछ क़र्ज़ चुकाने बाकी हैं,
कुछ दर्द मिटाने बाकी हैं , कुछ फ़र्ज़ निभाने बाकी हैं।

Ahista chal e zindgi, Kuch Karz Chukane Baaki Hai,

Kuch Dard Mitane Baaki hai, Kuch Farz Nibhane Baaki hai ||

Zindgi Sad Shayari
  • Save

वो हर बार अगर चेहरा बदल कर न आया होता,
धोखा मैंने उस शख्स से यूँ न खाया होता,
रहता अगर याद कर मुझे लौट के आती नहीं,
ज़िन्दगी फिर मैंने तुझे यूं न गंवाया होता।

Wo Har Baar Agar Chehra Badal kar na aya hota,

dhokha maine us Shaksh se yun na khaya hota,

rehta agar yaad kar mujhe laut ke aati nahi,

zindgi phir maine tujhe yun ganwaya na hota

Dard bhari Shayari
  • Save

ज़िन्दगी दरस्त-ए-ग़म थी और कुछ नहीं,
ये मेरा ही हौंसला है की दरम्यां से गुज़र गया।

Zindgi Drassat-e-Gham thi aur Kuch Nahi,

Yeh Mera hi Honsla Hai ki Darmayan se Gujar Gaya |

Please follow and like us:

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*